30 जनवरी 2012

उपलब्धि का आधार...1

कल दोपहर कुर्सी पर बैठा मैं किसी विचार में मगन था. अचानक मेरी नजर सामने खिल रहे फूलों के गमलों पर पड़ी. अनायास ही मेरे चेहरे पर रौनक छा गयी. लगभग 300 गमलों पर दृष्टिपात करने के बाद अचानक मेरी दृष्टि एक सुन्दर से खिले फूल पर टिक गयी. बहुत देर निहारा मैंने उसेउसकी सुन्दरताशालीनताभोलापन सब कुछ. एक जीवन्त अहसास कुछ देर ऐसा लगा कि मैं उस फूल में समा गया हूँ. बहुत आत्मीयता से उसने मुझे गले लगाया हैऔर अपना कोमल और निश्छल प्रेम अनवरत मुझ पर बरसा रहा हैकुछ पल तक मैं विस्मृत कर गया खुद को और शामिल हो गया उस फूल के माध्यम से इस अनन्त प्रकृति में और प्रकृति से परमात्मा में. मैंने शरीर की सत्ता से बाहर कई बार खुद को महसूस किया है और आज फिर उसकी पुनरावृति इस फूल के माध्यम से हुई. इतने में किसी ने मुझे कहा सर कैसे हैं?? मुझे सुना नहीं. उन्हें लगा कि शायद मुझे कोई समस्या हैइसलिए आत्मीयता से पास आये और कहने लगेसर आप ठीक तो हैं ना? एकाएक मेरा ध्यान भंग हुआ और मेरे चहरे को देखकर वह चुप हो गएबिना कुछ कहे वह वहां से चले गए और शाम को जब मुझे मिले तो अपनी अनुभूति बताने लगे और मुझे कहने लगे तुम सच में धन्य हो......बस इतना कह कर फिर रुक गए. मैंने कुछ जानना नहीं चाहा लेकिन जब वह कुछ बोलने लगे तो फिर रुके नहीं और मैं सुनता रहाऔर बार-बार मैं कृतज्ञ हो रहा था उस फूल के लिए. याद आया मुझे वह शे'र और सुना दिया उसे ‘क्या खूब है जीना फूलों काहँसते आते हैं और हँसते चले जाते हैं’. काश मैं भी यही सोचता इस जीवन के बारे में और करता वह सब कुछ जो उस फूल ने मुझे दिया है.
जीवन भी क्या है ? अभी मैंने अस्तित्व की तलाश पर भी कुछ लिखने का एक छोटा सा प्रयास किया और उस वक़्त में सोच भी इसी बारे में रहा था. लेकिन एक फूल ने जिस तरह मुझे अपने आगोश में लिया वह अनुभव जीवन में बहुत कुछ दे गया. उस फूल की उपलब्धि उसकी सुन्दरता नहींउसकी पंखुड़ियां नहींकिसी हद तक उसकी सुगन्ध भी नहीं. उसकी उपलब्धि का आधार है उसका अपनापनवह हमेशा हर परिस्थिति में मुस्कुराता हैउसके मन में किसी के लिए वैर नहींकोई विरोध नहींकोई ईर्ष्या नहीं. वह तो निश्छल रूप से लुटा रहा है खुद कोऔर वह किसी एक के लिए नहींबल्कि पूरी कायनात के लिए हैं. तितली भी उस पर बैठती है , भवंरा उस पर गुंजन करता हैव्यक्ति उसे ईश्वर के चरणों में समर्पित करके अपनी मनोकामना पूरी करता हैऔर फूल को देखिये हम उसे उसके बजूद से अलग करते हैं, लेकिन फिर भी वह हँसते-हँसते हमारी ख़ुशी में शामिल हो जाता है. यहाँ मुझे अज्ञेय जी द्वारा रचित कविता सत्य तो बहुत मिले एकदम आँखों के सामने घूम गयी और फिर एक बार मैं उस फूल के प्रति नतमस्तक हुआ.
हमारे जीवन में हमारी उपलब्धि का आधार क्या हैहम जीवन में किसे उपलब्धि मानते हैं. उपलब्ध और उपलब्धि में सिर्फ एक मात्रा का अन्तर है. ‘ की मात्रा उपलब्धि में है और उपलब्ध में नहीं. अंग्रेजी में इन दोनों के लिए जो शब्द प्रयोग किये जाते हैं एक को हम Achievement कहते हैं और दूसरे को Available  कहते हैं. जो आज उपलब्ध है कल वह समाप्त हो सकता हैफिर वह आ सकता है. लेकिन उपलब्धि के मामले में ऐसा नहीं. वह एक बार आती हैफिर आती हैफिर आती है लेकिन उसके रूप अलग अलग होते हैंवह निरंतरता बनाये रखती है. वह हमारे जीवन को मूल्यवान बनाती है. लेकिन एक सहज सा प्रश्न उठता है कि उपलब्धि का आधार क्या हो ? उसके मानक क्या हैं ? कौन सी हद है उपलब्धि की और कौन पात्र है उपलब्धि का ? अनायास ही यह प्रश्न उठ सकते हैं और इन प्रश्नों का उठना हमें अपनी वास्तविक उपलब्धि की तरफ अग्रसर करेगा.
बात मूल बिन्दु की करते हैं. वेदों से लेकर आज तक हमारे पास जितने भी ग्रन्थ हैं सबके निष्कर्ष लगभग एक जैसे हैं. अगर निष्कर्ष एक जैसे हैं तो निश्चित रूप से आधार भी एक जैसा होगा. हमें जो उपरी भिन्नताएं नजर आती हैंअगर हम भिन्नताओं के इस आधार को पहचान लें तो किसी हद तक  हम भी उपलब्धि के करीब पहुँच सकते हैं. उस फूल की तरह जिसे देखने मात्र से ही हमें ईश्वर का अहसास होने लगता हैहम खुद की अस्मिता को भूल कर उस फूल में खो जाते हैंहमारा खुद को भूलकर उस फूल के प्रेमपाश में बंध जाना उस फूल की उपलब्धि को निर्धारित करता हैऔर उस फूल में सिर्फ हम ही नहींबल्कि इस कायनात का हर जीव समा सकता है. अब हम खुद को ही देखेंइस इनसानी जन्म को कहा तो सर्वश्रेष्ठ जाता है. निश्चित रूप से यह ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति है. ईश्वर ने इसे अपने रूप में उतारा है और खुद जब ईश्वर ने धरती पर अवतार लिया तो मानव तन का ही सहारा लिया और दुनिया का मार्गदर्शन किया खासकर इनसानों का. उसे अवतरित होना पड़ा इनसानों को समझाने के लिएउन्हें जीवन की सार्थकता की पहचान करवाने के लिए. तैतरीय उपनिषद में इसे यूँ अभिव्यक्त किया गया है : 
                             यतो वा इमानि भूतानि जायन्तेयेन जातानि जीवन्तिI
                            यत्प्रयन्त्यभिसंविशन्तितद्विजिज्ञासस्वतद्ब्रह्मेतिI (तै०उ0 312)
 यह सब प्रत्यक्ष दिखने वाले प्राणी जिससे उत्पन्न होते हैंउत्पन्न होकर जिसके सहारे जीवित रहते हैं, तथा अन्त में प्रयाण करते हुए जिसमें प्रवेश करते हैंउसको जानने की इच्छा कर और वही ब्रह्म है. अब जब सृष्टि का आधार ही ब्रह्म है तो उसे जानना आवश्यक है और मानव जीवन का लक्ष्य भी वही है. यानि उपलब्धि का आधार ईश्वर है हम सब इससे पैदा हुए हैं और इसी में समायेंगे. शेष अगले अंकों में ....!

26 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन के दर्शन को जिस सुंदरता से आपने प्रस्तुत किया है केवल राम जी, उतनी ही सुन्दर आपकी भाषाई पकड़ भी है!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपलब्धि की प्रसन्नता या प्रसन्नता की उपलब्धि..

    उत्तर देंहटाएं
  3. सहमत हूँ...सुंदर जीवन दर्शन ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति को निहारना भी एक मेडिटेशन है .
    जीवन की सच्चाई प्रकृति से ही जुडी है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. चल एक किस्म इंसाँ की ऐसी उगायें
    जिसके जर्रे जर्रे से मोहब्बत खिलखिलाये
    ज़माना ढूँढे खारों को तो खार भी मुस्कायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपने सही कहा-उपलब्धि का आधार ईश्वर है,भाषा की जबरजस्त बेहतरीन प्रस्तुति,
    बहुत दिनों से मेरे पोस्ट पर नही आये,..आइये
    welcome to new post ...काव्यान्जलि....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर जीवन दर्शन, बेहतरीन प्रस्‍तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  9. अर्थात आत्मा और परमात्मा का एकीकरण ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. उपलब्ध और उपलब्धि में सिर्फ एक मात्रा का अंतर है."ई"की मात्रा उपलब्धि में है और उपलब्ध में नहीं.अंग्रेजी में इन दोनों के लिए जो शब्द प्रयोग किये जाते हैं एक को हम Achievementकहते हैं और दुसरे को Availableकहते हैं.जो आज उपलब्ध है कल वह समाप्त हो सकता है,फिर वह आ सकता है.लेकिन उपलब्धि के मामले में ऐसा नहीं.वह एक बार आती है,फिर आती है,फिर आती है लेकिन उसके रूप अलग अलग होते हैं,वह निरंतरता बनाये रखती है.वह हमारे जीवन को मूल्यवान बनाती है.



    सुन्दर...
    अति सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस उपलब्धि से क्या खोया क्या पाया...?

    उत्तर देंहटाएं
  12. वो गुलाब का फूल आपके लिए उपलब्ध था या ये आपके लिए उपलब्धि ...?
    आधार ईश्वर ही हैं ....
    उस फूल ने आपको सोचने का एक विषय दिया....बेहद खूबसूरती से आपने उसको सोचा और ..यहाँ हम सबके साथ साँझा किया ....इस लिए आभार ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. Ram re ram!
    Phool ko aadhaar bana anupam darshan prastut kiya hai aapne.
    kamaal ki perastuti hai,Keval Ram ji.

    maaf karna laptop aur net men samsya
    ke kaaran der se aa paaya aur doosre laptop se Hindi men type nahi kar paa raha hun.

    apke kuchh or chintan ka mai apne blog par bhi intjaar kar raha hun.

    उत्तर देंहटाएं
  14. जीवन दर्शन..अच्छा चिंतन कर डाला है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस लौकिक संसार से पारब्रह्म की ओर अभिमुख कराती आपकी एक और पोस्ट. आदि गुरु शंकराचार्य का "ब्रह्म सत्यम जगदमिथ्य " और स्वामी विवेकानंद का "....God is only politics, other else is trash!....." जैसे वाक्य आपके लेखों में झलकते हैं.
    बहुत सुन्दर पोस्ट. आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत मननीय जीवन दर्शन प्रस्तुत किया,

    यही परम् सत्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन अभिव्यक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिल्‍कुल सही कहा है आपने..बहुत सुंदर प्रस्तुति!
    एक ब्लॉग सबका '

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन दर्शन की गाथा बखूबी आपने प्रस्तुत किया है केवल राम जी |
    मैं धन्य हो गया आपके ब्लॉग पे आकर |

    उत्तर देंहटाएं
  21. केवल राम जी बहुत ही सुन्दर चिंतन। उपलब्धि कभी आकर नहीं जाती सच है...

    उत्तर देंहटाएं
  22. जीवन-सत्य को उसकी उपलब्धि को दर्शाती एक तात्त्विक चिंतन प्रधान पोस्ट!!! शैली विषयानुसार...

    उत्तर देंहटाएं

जब भी आप आओ , मुझे सुझाब जरुर दो.
कुछ कह कर बात ऐसी,मुझे ख्वाब जरुर दो.
ताकि मैं आगे बढ सकूँ........केवल राम.