23 अक्तूबर 2011

यादें और दर्द

तन्हाई 

मैंने तन्हाई में
तुम्हें भूलने की कोशिश की
पर जब मैं ......
अचेत अवस्था में तुमसे रूबरू हुआ
तो गहरे में उतरकर मैंने
महसूस किया कि
मेरी रूह हो गयी हो तुम
और .....
तुम्हारी यादें मेरा जीवन !
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

राहें 

आज जब जुदा हैं हम
एक - दुसरे को लाख चाहते हुए
जल रहें हैं विरह में
बेइन्तहा मोहब्बत करते हुए
मिलन की आस नहीं ,
और दूर जाना रास नहीं
तो ............!
क्योँ न हम
राधा - कृष्ण हो जाएँ  ?
xxxxxxxxxxxxxxxxxx

निशानी 

मेरे पिछले जन्मदिन पर
जो पैमाना तुमने
मुझे उपहार में दिया था
कल रात जाम पीते वक़्त
वह छलक कर टूट गया
उस टूटे पैमाने के कांच को
सहेजते वक़्त ,
कट गयी मेरी तर्जनी
और रक्त की हर बूंद में
देखा मैंने तुम्हारे प्यार का अक्स
फिर ...उस दर्द भरे घाव पर
नमक घिस कर
मैंने महसूस किया
कि इस दर्द से तो बेहतर है
तुम्हारे दिए हुए दर्द....
तुम्हारे होने की निशानी के लिए  !                               

50 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

सभी क्षणिकाएं एक से बढ़ कर एक पर हमें तो पहली वाली भा गयी ....मन फ्रेश हो गया

संजय भास्कर ने कहा…

जल रहें हैं विरह में
बेइन्तहा मोहब्बत करते हुए
मिलन की आस नहीं ,
और दूर जाना रास नहीं
तो ............!
क्योँ न हम
राधा - कृष्ण हो जाएँ !
क्या बात है केवल जी....क्योँ न हम राधा कृष्ण हो जाएँ ......बहुत सुन्दर...!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

क्योँ न हम
राधा - कृष्ण हो जाएँ !

अद्भुत भाव।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

pratyek kshanikaaon me ek kashish hai ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ प्रस्तुत की हैं आपने!
दीपावली की शुभकामनाएँ!

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

दर्द का मजा तो वही जाने
जिसे लगी हो मजा लेने की

:)))

POOJA... ने कहा…

waah...
bahut khoob...
aaj to wakai aapne dard uker diya pannon par...
kuch khas jab chubhta tab aise hi riste hain shabd...
radh-krishna" waah...

sushma 'आहुति' ने कहा…

यादे और दर्द बखूबी इन पंक्तियों में नज़र आता है.... बेहतरीन प्रस्तुती.....

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

और दर्द से बेहतर है तेरा दिया दर्द,
मुश्किल तो यह है कि लाइलाज़ है !

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

सभी क्षणिकाएं एक से बढ़ कर एक !
केवल जी, बहुत सुन्दर...!

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

सुंदर क्षणिकायें.विरह में प्रेम का सकारात्मक भाव मन को छू गया.

विशाल ने कहा…

तीनों रचनाएँ बहुत गहरे ले जाती हैं.
दूसरी गज़ब के भाव लिए हुए है.

तू राधा हो जाए,
मैं कृष्ण हो जाऊं.

और निशानी के बारे में क्या कहूं ,दर्द की इन्तहा है.
पहले पैमाना टूटने का दर्द ,वो भी भरा हुआ ,
दुसरे ज़ख्म का दर्द ,
फिर नमक का दर्द.
पर कुछ भी उसके दर्द से ज़्यादा नहीं.

आपकी कलम को ढेरों शुभ कामनाएं.

संध्या शर्मा ने कहा…

और रक्त की हर बूंद में
देखा मैंने तुम्हारे प्यार का अक्स
फिर ...
मैंने महसूस किया
कि इस दर्द से तो बेहतर है
तुम्हारे दिए हुए दर्द....
तुम्हारे होने की निशानी के लिए ...
अद्भुत, असीम पवित्र प्रेम की पराकाष्ठा हैं ये क्षणिकाएं...
दर्द जैसे बह चला है शब्दों के रूप में...

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

badhai bahut sundar bhavo ke liye...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

तीनों रचनाये बहुत सुन्दर ...

मिलन की आस नहीं ... कृष्ण राधा होने का उपाय ..बहुत बढ़िया ..

S.N SHUKLA ने कहा…

सुन्दर सृजन , प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें

समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

Atul Shrivastava ने कहा…

दर्द से बेहतर दर्द.....
बेहतरीन केवल जी।

रविकर ने कहा…

दीपावली की शुभकामनाएं ||
सुन्दर प्रस्तुति की बहुत बहुत बधाई ||

वन्दना ने कहा…

क्या बात है केवल राम बहुत ही दर्द भर दिया…………कहाँ से इतना दर्द भर लाये।

Suresh kumar ने कहा…

केवल जी बहुत ही खुबसूरत लिखा है आपने |
आने वाले सभी त्यौहारों की मुबारक बाद देता हूँ |

ASHA BISHT ने कहा…

RADHA-KRISHN HO JAYEN..
sabse behtar....bhavpurn.sambodhan...

Amrita Tanmay ने कहा…

तीनों क्षणिकाएं खुद में ही रोक ले रही है.. एक-से बढ़कर एक..

shikha varshney ने कहा…

तीनी क्षणिकाएं बहुत अच्छी हैं .पहली वाली बहुत ही अच्छी लगी.

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

प्यार में तो खून के आँसू बहाने ही पड़ते हैं:)

दर्शन कौर ने कहा…

सारी क्षणिकाए एक से बढकर एक हैं ..प्यार का एहसास भी प्यार से बढकर हैं ..लाजबाब !

***Punam*** ने कहा…

तीनों रचनाएं एक से बाद कर एक....

प्रेम हो जीवन में....

बस किसी भी रूप में.....

दिलबाग विर्क ने कहा…

एक से बढकर एक

Amit Chandra ने कहा…

खूबसूरत क्षणिकाएं. सादर

अशोक कुमार शुक्ला ने कहा…

आदरणीय महोदय
एक से बढ़ कर एक

बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ

सराहनीय है
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

dheerendra11 ने कहा…

नहले पर दहला सभी क्षणिकाये एक से बढ़ एक अच्छी पोस्ट,बधाई

दीपावली की शुभकामनाए

रचना दीक्षित ने कहा…

एक से बढ़ कर एक क्षणिकाएं.सुन्दर प्रस्तुति. आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

रचना दीक्षित ने कहा…

एक से बढ़ कर एक क्षणिकाएं.सुन्दर प्रस्तुति. आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

तीनों ही क्षणिकाएं बहुत बढ़िया हैं.......

Saru Singhal ने कहा…

Seriously, very beautiful...:)

Babli ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

ASHOK BIRLA ने कहा…

prem ki dariya me hilore leti bhavanaye ...saral hriday se prem ki vyakya

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति

Ravi Rajbhar ने कहा…

Sadar pradam,

sabhi kashdikaye bahut hi bhawporna hin,

Dhanteras wa diwali ki sa-pariwar hardik subhkamnaye.

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

लुभावनी क्षणिकाएं सच में दिल को भा गई...

आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
MADHUR VAANI
MITRA-MADHUR
BINDAAS_BAATEN

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं....

Kailash C Sharma ने कहा…

लाज़वाब...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

विजयपाल कुरडिया ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये............
प्रकाश पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये ..मेरी और से भी बधाहिया सवीकार कीजिये

आशा ने कहा…

दीपा वाली के लिए हार्दिक शुभ कामनाएं |
आशा

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

way4host
RajputsParinay

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेर पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की अशेष शुभकामनाओं के साथ---सादर

Rakesh Kumar ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर प्रस्तुति है केवल भाई.
गहरे अहसासों का अनुभव कराती हुई.

दीपावली के पावन पर्व की बहुत बहुत शुभकामनाएँ.

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

सुंदर प्रस्‍त‍ुति।



*दीवाली *गोवर्धनपूजा *भाईदूज *बधाइयां ! मंगलकामनाएं !

ईश्वर ; आपको तथा आपके परिवारजनों को ,तथा मित्रों को ढेर सारी खुशियाँ दे.

माता लक्ष्मी , आपको धन-धान्य से खुश रखे .

यही मंगलकामना मैं और मेरा परिवार आपके लिए करता है!!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

राधा कृष्ण हो कर ही जीवन का मर्म समझा जा सकता है ...
एक से बढ़ कर एक सभी क्षणिकाएं ...
आपको दीपावली की मंगल कामनाएं ...

Ramakant Singh ने कहा…

कदम ठिठक जाने को मजबूर कर दिया है आपने चलते चलते.

बेनामी ने कहा…

बेहद सुंदर भावाभिव्यक्ति .....एक से बढ़कर एक क्षणिकाएं ......लाजबाब ....!