07 नवंबर 2011

चतुर्वर्ग फल प्राप्ति और वर्तमान मानव जीवन...1

जीवन की नियति और परिणति क्या है,  इस बात से सभी भली भांति अवगत हैं. लेकिन फिर भी हम सब कुछ जानते हुए अनजान बने रहते हैं. सब कुछ हमारे सामने घटित होता है.  फिर भी हम मूकदर्शक की भूमिका निभाते हैं. हमारे सामने ना जाने कितने ऐसे अवसर आते हैं जब हम जीवन और इसकी महता को नजर अंदाज करते हैंऔर बहुत कम बार ऐसा होता है कि हम जीवन को महता दें और फिर कोई निर्णय लेंजहाँ तक मानव जीवन का सम्बन्ध है, उसे परमात्मा ने चेतना बख्शी है. उसके जीवन का लक्ष्य निर्धारित किया है. लेकिन इनसान है कि वह सबसे पहले तो भौतिकता में रमना चाहते हैं. खूब सारा यश अर्जित करना चाहते हैंधन-दौलतमहल-माड़ियांकुटुम्ब-कबीला न जाने कितने भ्रम हमारे सामने हैं. हालाँकि यह भी हमारे जीवन के साथ गहरा ताल्लुक रखते हैं, और इन सभी का सृजन मानव ने अपने आपको सुखी करने के लिए किया है. लेकिन जब अपने वास्तविक लक्ष्य को भुला दिया जाता है और सब कुछ अर्जित किया जाता है तो फिर क्या उसे हम समझदारी कहेंगे?
किसी से पूछो कि आपके जीवन का लक्ष्य क्या हैआप जीवन में क्या हासिल करना चाहते हैंकभी आपने यह सोचा कि आपको यह जीवन क्योँ मिला हैतो हर व्यक्ति का जबाब अलग-अलग होता है. ऐसा जबाब सुनकर कभी मन हर्षित हो जाता है तो कभी निराशा हाथ लगती है और फिर सहज ही ध्यान जाता है, हमारे पास उपलब्ध जो धर्म ग्रन्थ है, उनकी तरफ या फिर संतों की जो रचनाएं और उनमें वर्णित जो जीवन दर्शन हमारे पास है उनमें हम जीवन का सार ढूंढते हैं. लेकिन फिर भी हमारी समस्या का समाधान नहीं होता, वह वैसी की वैसी बनी रहती है और हमारा जीवन सफ़र चलता रहता है. ना जाने कब से हम इस विचार को अपने मन में धारण करते आये हैं कि इस जीवन का कुछ तो लक्ष्य है. लेकिन फिर भी हमारा अनजान बना रहना कष्ट का कारण बनता है हमारे लिएजबकि हमारे धर्म ग्रन्थ हमें बार-बार चेतन करते हैं कि ‘मानुष जन्म दुर्लभ हैहोत ना बारम्बार’ जो है ही दुर्लभजो फिर दुबारा नहीं हो सकता जिसकी प्राप्ति सौभाग्य से हुई है हम ऐसे जीवन का लक्ष्य क्या निर्धारित करें? यह यक्ष प्रश्न हमें बैचेन करता रहता है. जिनकी बैचेनी बढ़ जाती है वह तो इसका हल तलाशने की कोशिश करते हैं, और जो इस बैचेनी को महसूस नहीं कर पाते वह गुमनाम जीवन जी कर काल का ग्रास बनते हैं. जन्म तो लिया था आत्मा का मिलन परमात्मा से हो इसके लिएआवागमन के चक्कर से मुक्ति मिले इसके लिएलेकिन हुआ इसके विपरीत ‘ना खुदा ही मिला ना विसाले सनम’ ना संसार में सही ढंग से जी सके और ना कुछ कर सके. ‘ना माया मिली ना राम’ और बिना कुछ किये पहुंच गए शमशान. जीवन को जब गहराई से सोचा जाता है तो इसकी महता का पता चलता है. लेकिन हमारे पास ऐसा अवसर कम ही बन पाता है जब हम गहराई से इसके बारे में सोचें. लेकिन हमारे धर्म-ग्रन्थऋषि-मुनिहमेशा जीवन की वास्तविकता को समझने की कोशिश करते रहेऔर जो कुछ उन्होंने अनुभूत किया उसे हम सभी के साथ सांझा करने का प्रयत्न करते रहे. आज भी उनके द्वारा रचे गए ग्रन्थ हमारा मार्गदर्शन करते हैं.
हमारे धर्म ग्रंथों में जीवन का लक्ष्य चतुर्वर्ग फल प्राप्ति बताया है और वह चतुर्वर्ग हैं, धर्मअर्थकाममोक्ष. यहाँ तक कि हमारे साहित्य शास्त्रियों ने भी जब साहित्य के प्रयोजन पर विचार किया तो उन्होंने ने भी इस चतुर्वर्ग फल प्राप्ति को साहित्य का प्रयोजन निर्धारित किया. अलंकार सिद्धांत के उदभावक आचार्य भामह का कथन ध्यान देने योग्य है:-
धर्मार्थकाममोक्षाणां वैचक्ष्व्यं कलासु च.
प्रीतिं करोति कीर्ति च साधुकाव्यनिबन्धनम्.
हमारे साहित्य में जीवन सन्दर्भों को बखूबी उद्घाटित किया गया है. पहले तो जीवन को चार भागों में बांटा गया (ब्रह्मचर्यगृहस्थवानप्रस्थ और संन्यासऔर उन्हें जीवन की चार अवस्थाएं भी कहा जाता है. जीवन की चार अवस्थाएं और जीवन के चार पुरुषार्थ (धर्मअर्थकाममोक्ष) कुल मिलाकर जीवन को अपने लक्ष्य की तरफ जन्म से ही अग्रसर रखते हैं. लेकिन मनुष्य फिर भी ध्यान नहीं दे पाता. सब कुछ व्यवस्थित होते हुए भी वह अव्यवस्था का शिकार बना रहता है. सब कुछ स्पष्ट होते हुए भी वह भ्रम में रहता है. इसे हम क्या कहेंमानव की नादानी या फिरमानव की अज्ञानता? कारण कुछ भी हो हमें जीवन सन्दर्भों की तरफ अपन ध्यान लगाना चाहिए. हम जीवन को जितना समझने की कोशिश करेंगे उतनी ही हमें इसकी महता का अहसास होगा. शेष अगले अंक में........!

33 टिप्‍पणियां:

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

बहुत सुन्दर मित्र अगले अंक का इन्तजार रहेगा

Sunil Kumar ने कहा…

आज के समाज का सही विश्लेषण , सारगर्भित पोस्ट आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रकृति ही अपना कार्य करती है, सही मायनों में हम मूकदर्शक ही हैं।

Amrita Tanmay ने कहा…

जीवन व्यर्थ नहीं है मरुस्थल में यदि न भटका जाए . हम सभी सार्थक होने की संभावना को लेकर ही जन्म लिए हैं.थोड़ी हिम्मत से सागर के करीब पहुंचा जा सकता है जिसके लिए हमें अपने उद्देश्य को निर्धारित करना होगा. सार्थक व सुन्दर आलेख.

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

बहुत सुन्दर

Babli ने कहा…

बेहद सुन्दर और सार्थक पोस्ट! बधाई!
मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/

वन्दना ने कहा…

सारगर्भित आलेख अगले भाग का इंतज़ार्।

ASHA BISHT ने कहा…

बेहतरीन..पोस्ट आभार

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज्यादातर निरुद्देश्य ही जीवन जी लेते हैं ... अच्छी विचारणीय पोस्ट

रचना दीक्षित ने कहा…

जीवन दर्शन की सुंदर विवेचना सारगर्भित आलेख में प्रस्तुत की है.

बधाई.

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर, अगली कड़ी का इंतजार

संध्या शर्मा ने कहा…

हम जीवन को जितना समझने की कोशिश करेंगे उतनी ही हमें इसकी महता का अहसास होगा ...
बिलकुल सही बात कही है जन्म तो लिया है आत्मा का मिलन परमात्मा से हो इसके लिए , आवागमन के चक्कर से मुक्ति मिले इसके लिए... प्रयासरत भी हैं...
सारगर्भित लेखन...अगले अंक का इन्तजार है...

Kajal Kumar ने कहा…

हमारे पूर्वजों ने वास्तव में ही कहीं गहन चिंतन किया है

shikha varshney ने कहा…

गहन चिंतन ..आगे का पढते हैं.

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

जीवन का दिशा देगा आपका यह आलेख.. संग्रह कर लिया है..

dheerendra ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति,पढकर बहुत अच्छा लगा..अगले अंक के इन्तजार में फिर मिलते...
मेरे पोस्ट में स्वागत है...

Pallavi ने कहा…

आज के समय में ऐसी गहन सोच वाली बातें बहू कम ही देखने और सुनने को मिलती है बहुत अच्छा लिखा है आपने आपकी इन बातों से.....
" जन्म तो लिया था आत्मा का मिलन परमात्मा से हो इसके लिए , आवागमन के चक्कर से मुक्ति मिले इसके लिए , लेकिन हुआ इसके विपरीत " ना खुदा ही मिला ना विसाले सनम " ना संसार में सही ढंग से जी सके और ना कुछ कर सके . "ना माया मिली ना राम " और बिना कुछ किये पहुंच गए शमशान . जीवन को जब गहराई से सोचा जाता है तो इसकी महता का पता चलता है .
आपका गहन चिंतन साफ दिखाई पड़ता है अगले अंक का इंतज़ार रहेगा।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत उम्दा!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! सूचनार्थ!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत कुछ ऐसा है जो हमारे हाथ नहीं ...पर हम मानें तो .... सुंदर चिंतन

Deepak Saini ने कहा…

हमारे बस में है ही क्या ?

सुंदर लेख
अगली कड़ी का इन्तजार है

मनोज कुमार ने कहा…

हम जीवन को जितना समझने की कोशिश करेंगे उतनी ही हमें इसकी महता का अहसास होगा .
क्या बात कही है। बिल्कुल सही। अगले अंक का इंतज़ार।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

इतना कुछ पढ़ के लगता है कैसे हमारे पूर्वजों ने जीवन और प्राकृति को गहरे से आत्मसात किया होगा ... प्राकृति अनुसार जीवन पद्धति ....
बहुत आनंद आया पढ़ के ....

SAJAN.AAWARA ने कहा…

bahut badhiya bhai ji...
jai hind jai bharat

shashi purwar ने कहा…

bahut sunder post ...prakruti apna sandesh sadaiv de deti hai ......hum hi hai jo uske sanket ke nahi pahachaan pate hai ...........badhai .
agle aank ka intjar rahega .

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ... आभार ।

दिलबाग विर्क ने कहा…

सही विश्लेषण , सारगर्भित पोस्ट
अगले अंक का इन्तजार रहेगा

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत कुछ पठनीय है यहाँ आपके ब्लॉग पर-. लगता है इस अंजुमन में आना होगा बार बार.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद !

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

भौतिक सुखों का भ्रमजाल इतने रंगीन तानो-बानो से बुना हुआ है कि मनुष्य अपने आप को भूला हुआ है.ऐसा नहीं कि स्वयम के बारे कभी सोचता ही नहीं.कई ऐसे अवसर आते हैं जब वह स्वयम को तलाशने लगता है किंतु मार्ग कठिन लगने के कारण फिर भटक कर फिर उन्हीं भ्रमजालों में उलझ जाता है.
सार्थक प्रस्तुति,अगली कड़ी की प्रतीक्षा रहेगी.

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति।
शानदार अभिव्यक्ति,

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

आत्मचिंतन बेहद गूढ़... कुछ तो सार निकलेगा .. आगे की पोस्ट की इंतजारी

anju(anu) choudhary ने कहा…

सटीक वर्णन .....इंतज़ार है अगली कड़ी का

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपके पोस्ट पर आकर अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट शिवपूजन सहाय पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद

Tv100 ने कहा…

Sarthak lekhan ka badhiya udaharan hai!