19 मार्च 2012

चरणों में सजाये रखना

जीवन में प्रार्थना का महत्व किसी से छुपा नहीं है . व्यक्ति जब जिन्दगी की जंग में हार जाता है तो वह अपने ईष्ट से प्रार्थना करता है और अगर हमारी प्रार्थना सच्चे मन से निकली होती है तो फिर स्वाभाविक है कि प्रार्थना पूर्ण हो जाये .....लेकिन भौतिक सुखों की प्राप्ति के लिए जब हम प्रार्थना करते हैं तो हम वास्तविक प्रार्थना से दूर होते जाते हैं ....वास्तविक प्रार्थना है खुदा से खुदा को मांग लेना ....जब खुदा हमारा है और हम खुदा के हैं तो फिर क्या दुःख और कैसी परेशानी ....! आओ ऐसी प्रार्थना करें  ..जिसमें सबका भला हो ..सबकी ख़ुशी हो ....! 

दाता करना कृपा , खुली रखना हमारी निगाहों को 
करते हैं हम भूल , बख्श लेना हमारे गुनाहों को

तेरे दर आये हैं हम , झोली खाली - पसारी 
सेवा-सुमिरन-सत्संग से, तूने किस्मत संवारी  

झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है 
झुकने में है भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है  

मानवता है -मिशन, एकता और भाईचारा
अन्धेरा ना रहे कहीं , चहुँ और हो उजियारा 

भटके थे हम थे भूले, नाता सत्य से था तोड़ दिया 
हमें चरणों में बिठाकर , तूने सत्य से जोड़ दिया    

अरदास है हमारी , हमें अपना बनाये रखना 
'केवल' अपने चरणों की धूल में सजाये रखना 

27 टिप्‍पणियां:

  1. man se nikali sunder prarthana ...
    shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाहत अपने राम की, केवल सुमिर प्रभाव ।
    जीवन भर बढ़ता रहे, प्रभु चरणों का चाव ।
    प्रभु चरणों का चाव, एकता भाई चारा ।
    हो विनम्र हम राम, हृदय में हो उजियारा ।
    मिला सत्य का साथ, मनुजता चली पनपने ।
    बन चरणों की धूल, समर्पित केवल अपने ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मनोभावों को बेहद खूबसूरती से पिरोया हैआपने....
    हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है झुकने में है
    भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है
    समर्पण भाव को समेटे सुन्दर पंक्ति ....केवल जी..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरदास है हमारी , हमें अपना बनाये रखना
    'केवल' अपने चरणों की धूल में सजाये रखना ………समर्पण भाव से ओत प्रोत प्रार्थना ही सार्थक होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रत्‍येक शब्‍द समर्पण का भाव लिए ...उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......



    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    उत्तर देंहटाएं
  8. झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है
    झुकने में है भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है

    बिलकुल सच...बहुत सार्थक और भावमयी प्रार्थना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अरदास है हमारी , हमें अपना बनाये रखना 'केवल' अपने चरणों की धूल में सजाये रखना ....

    यही सन्मति सभी को मिलती रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  11. झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है
    झुकने में है भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है
    सचमुच यही है वास्तविक प्रार्थना खुदा से खुदा को मांग लेना... सबकी ख़ुशी में अपनी ख़ुशी सच्ची बंदगी... सुन्दर समर्पण के भाव....

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरदास है हमारी , हमें अपना बनाये रखना
    'केवल' अपने चरणों की धूल में सजाये रखना

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरदास है हमारी , हमें अपना बनाये रखना 'केवल' अपने चरणों की धूल में सजाये रखना
    यही भक्तिभाव हमेशा बना रहे यही दुआ है ...बेहतरीन प्रस्तुति.....केवल जी

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर
    और बेहतरीन रचना:-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर प्रार्थना का एक level होता हैं |
    १] खुद के लिए प्रार्थना -बहुत शक्तिशाली
    २]किसी अपने के लिए प्रार्थना -और ज्यादा शक्तिशाली
    ३]सम्पूर्ण ब्रम्हाण्ड के लिए प्रार्थना -परम शक्तिशाली

    हमारा अवचेतन मन हर सकारात्मक प्रार्थना को ग्रहण कर लेता हैं और वैसा ही परिवर्तन लाता हैं |जैसा हम जीवन चाहते हैं ,उसी तरह की प्रार्थना करनी चाहिये |आपका लेख बहुत सुंदर लगा आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया अब रोज आऊंगा |

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर , पावन स्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  17. झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है
    झुकने में है भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है ...

    अनमोल शब्द हैं ... जीवन का असली सार झुकने में ही है न की झुकाने में ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक सच्ची प्रार्थना, जो अवश्य ही ईश्वर तक जरूर पहुंची होगी..........

    उत्तर देंहटाएं
  19. झुकना सीख जाएं हम , झुकना जिंदगी है
    झुकने में है भला सबका, झुकना तेरी बंदगी है

    wahhhh.......antarman khil utha,

    mano fir se tretayug aa gaya ho

    v.v. thanks Ramji.

    उत्तर देंहटाएं

जब भी आप आओ , मुझे सुझाब जरुर दो.
कुछ कह कर बात ऐसी,मुझे ख्वाब जरुर दो.
ताकि मैं आगे बढ सकूँ........केवल राम.