07 जून 2011

मेरी हर सोच

मेरी  हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी .

सपना था सजाया जो कल्पनाओं में
उन सपनों की महफ़िल वीरानी हो गयी .

हर पल जिन्हें निहारने को तरसती  निगाहें
वक़्त के फेर में उनसे बे ईमानी हो गयी .
 
सजते थे सपने खूब आज वक्त  ने याद दिलाया
उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी .

लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
उनकी तस्वीर अब  मेरी जिंदगानी हो गयी .

79 टिप्‍पणियां:

  1. सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी

    सुंदर भाव.... समय के बहुत कुछ बदल जाता है ..यह समय ही याद दिलाता है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. उनकी बेईमानी ने इतनी खूबसूरत ग़ज़ल लिखवा दी ...
    ये भी क्या कम हैं जो इश्क के सितम है ...
    दूर सही मगर साथ यादें हमकदम हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhut hi khubsurat bhaavo saji rachna... very nice...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा केवल भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तस्वीर को दिल से लगाए रखिये ,
    कोरे कागज पर कलम चलाते रहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर भावों से सजी सुन्दर कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावों से सजी सुन्दर कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  8. तक़दीर का सारा खेल है ये और वक़्त की हेराफेरी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी...

    Beautiful expression !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  10. tasveer jab jindagi hai, to wo kya hongi...........:)

    batana kewal bhai..!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. shimla ka airticket lekar jaldi se mere blog pe aana..........:D

    उत्तर देंहटाएं
  12. भावपूर्ण ग़ज़ल ।
    ग़ज़ल लिखने का प्रयास अच्छा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरे ये अश्क अभी तू इन्तजार कर इस जमीपे गिरने के लिए :
    अभी तो जमाने में पत्थर बहुत है मुहब्बत में ठोकर खाने के लिए :
    एक तू ही तो है जो इन आखो में रहता है :
    तेरे सिबा है ही कौन इन आखो में बसाने के लिए :
    अरे ये अश्क अभी तू इन्तजार कर इस जमीपे गिरने के लिए :
    अभी तो जमाने में पत्थर बहुत है मुहब्बत में ठोकर खाने के लिए :

    उत्तर देंहटाएं
  14. लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
    उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी..
    दिल को छू गयी ये पंक्तियाँ! बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  15. जते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी .

    लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
    उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी .
    वाह ... हर पंक्ति बेहतरीन भावों के साथ ..।

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह वा वाह वा..........आज तो माईलों मीटर भी तोड़ दिया... सुभान अल्ला

    उत्तर देंहटाएं
  17. भावानाओ को बखुबी व्यक्त किया आपने बधाई हो आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्या बात है आज तो भावनाओं के ज्वार ने हर बांध तोड दि्या।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी .

    bahut hi khoob kaha kewal ji.
    har line dil ko chhu gai.

    उत्तर देंहटाएं
  20. लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
    उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी ...


    बहुत खूब ... जो एक बार दिल में घर बना लें उन्हे भूलना आसान नही होता ... खूबसूरत ग़ज़ल है ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या बात है है केवल राम जी बहुत उम्दा बात कही आपने !अपना महत्वपूर्ण टाइम निकाल कर मेरे ब्लॉग पर जरुर आए !
    Free Download Music + Lyrics
    Free Download Hollywwod + Bollywood Movies

    उत्तर देंहटाएं
  22. मेरी हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
    मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी
    बहुत ही उम्दा शब्द है.....केवल राम जी

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत खूब केवल जी....खूबसूरत ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  24. सपना था सजाया जो कल्पनाओं में
    उन सपनों की महफ़िल वीरानी हो गयी .
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ है ..

    उत्तर देंहटाएं
  25. अरे मेरे भाई! बहुत ही दर्द है, पर ये जिन्दगी है ! ऐसे मुकाम हर मोड़ पर देखने को मिलेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  26. उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी

    >तस्वीर देख बुढापा फिर जवानी हो गयी :)

    उत्तर देंहटाएं
  27. हर पल जिन्हें निहारने को तरसती निगाहें
    वक़्त के फेर में उनसे बे ईमानी हो गयी .
    ************
    ये वक्त ही कम्बक्त क्या इल्म है,
    सीखा देता है बेईमानी.
    बहुत खूब कहा.

    उत्तर देंहटाएं
  28. सपना था सजाया जो कल्पनाओं में
    उन सपनों की महफ़िल वीरानी हो गयी .

    बहुत सुंदर शेर.....
    बहुत अच्छी ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  29. पूरी रचना बहुत अच्छी लगी। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपकी पोस्ट कल चर्चा मंच का हिस्सा होंगी नजर डालियेगा

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपने याद दिलाया तो मुझे याद आया....

    बहुत भाव पूर्ण प्रस्तुति..!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. मेरी हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
    मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी . ... waah

    उत्तर देंहटाएं
  33. भाई केवल जी, आपकी खूबसूरत ग़ज़ल पर एक पुराना शेर याद आ गया;
    दिल की धड़कन देख ली दिल की तमन्ना देख ली, झांक कर चिलमन से किसने मेरी दुनिया देख ली.

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत अच्छी लगी आप की यह रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  35. मेरी हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
    मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी .

    सपना था सजाया जो कल्पनाओं में
    उन सपनों की महफ़िल वीरानी हो गयी .
    waah bahut khoob likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  36. संवेदनशील शिल्प मार्मिक है --
    सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी ..
    बधाई .....

    उत्तर देंहटाएं
  37. सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी . ..wah bahut khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  38. लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
    उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी.

    खूबसूरत शेर और खूबसूरत गज़ल.शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  39. यादें जीवन का स्वरुप हैं ...शुभकामनायें केवल राम !

    उत्तर देंहटाएं
  40. पर तस्वीर तेरी क्या "मेरा" दिल बहला पाएगी ?

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत मर्मस्पर्शी वैचारिक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत सुन्दर गजल ...अच्छा लगा यहाँ आकर ..बधाई
    ___________________

    'पाखी की दुनिया ' में आपका स्वागत है !!

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत सुन्दर भाव की गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  44. उम्दा ग़ज़ल कही है केवल भाई...
    सादर शुभकामनाये....

    उत्तर देंहटाएं
  45. wah ram
    kabhi mere blog par bhi aaye aane ke liye yaha click kare-"samrat bundelkhand"

    उत्तर देंहटाएं
  46. उम्दा,बेहतरीन ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  47. हर पल जिन्हें निहारने को तरसती निगाहें
    वक़्त के फेर में उनसे बे ईमानी हो गयी .
    bahut khoob
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  48. मेरी हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
    मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी........

    "उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी ..."
    वाह...उनकी तस्वीर ही जिंदगानी हो गई...जवाब नहीं...
    सुन्दर भावनाओ से भरी मन को गहराई तक छू रही है हर एक पंक्ति... बहुत सुन्‍दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  49. लाख कोशिश की केवल उन्हें भूलने की ,
    उनकी तस्वीर मेरी जिंदगानी हो गई ।
    ग़ज़ल पुरानी होना चाहे हो जाए ।
    प्यार मोहब्बत केवल कभी पुरानी नहीं होती

    उत्तर देंहटाएं
  50. मेरी हर सोच अनलिखी कहानी हो गयी
    मेरी हर ग़ज़ल अब पुरानी हो गयी .

    बहुत सुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं
  51. kevalji sundar prastuti...kavyadhara men aap apna dil nikal kar rakh dete hain...vadhayi!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  52. लाख कोशिश की 'केवल' उन्हें भूलने की
    उनकी तस्वीर अब मेरी जिंदगानी हो गयी .
    -----------------------------------
    बहुत सुन्दर.........

    उत्तर देंहटाएं
  53. भावानुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति
    ...............................हर शेर अर्थपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  54. बेनामी18/6/11 11:08 pm

    www.chalte-chalte.com is my favorite website now!
    [url=http://www.buzzfeed.com/ufcfan/how-to-download-from-youtube-1aqh]how to download from youtube[/url]

    उत्तर देंहटाएं
  55. बहुत अच्छा लिखा है सर!
    -----------------------------------
    कल 21/06/2011को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है-
    आपके विचारों का स्वागत है .
    धन्यवाद
    नयी-पुरानी हलचल

    उत्तर देंहटाएं
  56. आपकी गजल पुरानी होकर भी नित नित नई होती जा रहीं हैं.क्यूंकि उनकी तस्वीर को आपने अब अपनी जिंदगानी ही बना लिया है.'केवल'जी आप उनको भूलने की कोशिश ही क्यूँ कर रहें हैं अब.

    उत्तर देंहटाएं
  57. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  58. भावनाओ के समंदर की लहरों ने सबको गीला कर दिया..........बहुत उत्कृष्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं
  59. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  60. वाह ....नब्ज़-ए-ज़िन्दगी पकड़ कर ये शायरी लिखी है ...!!
    बहुत सुंदर ...!!
    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  61. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  62. सजते थे सपने खूब आज वक्त ने याद दिलाया
    उन्हें पाने की तमन्ना में नादानी हो गयी .
    bahoot khoob kevalji sunder gajal.badhaai aapko.
    happy friendship day.
    / ब्लोगर्स मीट वीकली (३) में सभी ब्लोगर्स को एक ही मंच पर जोड़ने का प्रयास किया गया है / आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/ हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार ०८/०८/११ कोब्लॉगर्स मीट वीकली (3) Happy Friendship Day में आप आमंत्रित हैं /

    उत्तर देंहटाएं

जब भी आप आओ , मुझे सुझाब जरुर दो.
कुछ कह कर बात ऐसी,मुझे ख्वाब जरुर दो.
ताकि मैं आगे बढ सकूँ........केवल राम.