15 जून 2010

कुछ कहने का मतलब


आज कल आभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में सोचना थोडा अजीब सा लगता है , पर जैसे -जैसे हम प्रगति के पथ पर अग्रसर हैं वैसे ही हमें अपनी आभिव्यक्ति के बारे में  भी सोचना होगा कुछ कहने का मतलब यह नहीं कि हम सब कुछ सही कह रहे हैं  ,आज के परिवेश में सबसे बड़ी बात यह है कि हम कुछ कहने से पहले कुछ सोचने की जरुरत भी नहीं समझते ,जो मुंह  में आता है उसे वक देते हैं परिणामस्वरूप हमें कई बार आपनी बातों की सफाई देनी पड़ती है ,इसलिए हम अपने शब्दों की महता को समझें , और एक सभ्य समाज के व्यक्ति कहलाने का प्रयास करें .



1 टिप्पणी:

"पलाश" ने कहा…

kewal ji its very nice to come from your 100th post to first post, really your starting is very nice. very great message you tried to communicate.
i wish you touch the height of writing...